Categories
गोंडा लाइव अपडेट

अखिलेश यादव के विवादित बयान पर संतों का रिएक्शन

खबर अयोध्या से है। अखिलेश यादव कल देश राम अयोध्या पहुंचे और उन्होंने बड़ा बयान दे डाला। अखिलेश यादव ने कहा कि हमारे हिंदू धर्म में कहीं पर भी पत्थर रख दो, एक लाल झंडा रख दो, पीपल के पेड़ के नीचे तो मंदिर बन गया। सपा सुप्रीमो के इस बयान पर अयोध्या के संतों ने नाराजगी व्यक्त की है।संत समाज ने कहा कि तुष्टीकरण की राजनीति करते करते अखिलेश यादव केवल नाम के हिंदू रह गए हैं।वह मन से मुस्लिम हो चुके हैं।अखिलेश यादव का बयान दुर्भाग्यपूर्ण है अखिलेश यादव हमेशा मुस्लिम तुष्टिकरण का काम करते हैं ।उनको बहुसंख्यक समाज की भावनाओं से कोई मतलब नहीं है। वही संत समाज ने अपील किया कि सभी सनातन धर्म के हिंदू भाई बहन समाजवादी पार्टी से दूरी बना लें।अखिलेश यादव का बयान ने यह सिद्ध कर दिया है कि अखिलेश यादव वर्ग विशेष की टोपी ही नहीं लगाते बल्कि अंदर से भी वह हिंदू धर्म छोड़ चुके हैं।

सरयु नित्य आरती के अध्यक्ष शशिकांत दास ने कहा अखिलेश यादव हमेशा हिंदू विरोधी बातें करते हैं। मुलायम सिंह पर हमलावर होते हुए कहा कि यह उन्हीं के पुत्र हैं जिन्होंने राम भक्तों पर गोली चलवाई थी।यह केवल मुस्लिम समाज के लाभ की बात करते हैं। शशिकांत ने कहा कि अखिलेश यादव का बयान दुर्भाग्यपूर्ण है यह केवल नाम के ही हिंदू रह गए हैं अखिलेश के हृदय में अब हिंदुत्व नहीं रह गया है। शशिकांत दास ने कहा मुस्लिमों का पक्ष लेते लेते अब अखिलेश यादव मुसलमान हो चुके हैं पीपल के वृक्ष की धार्मिक मान्यताएं हैं उसकी पूजा वासुदेव के रूप में होती है हमारे यहां सनातन धर्म में हर पूजा में पीपल के वृक्ष और उसके पत्तियों का इस्तेमाल होता है महंत शशिकांत दास ने कहा कि अखिलेश यादव मुलायम सिंह के पुत्र हैं वह हिंदू पक्ष की बात नहीं करेंगे समाजवादी पार्टी का स्तर लगातार गिर रहा है अखिलेश यादव की बुद्धि भ्रष्ट हो गई है जो देवी देवताओं और भगवान को लेकर भी अब अनाप-शनाप बयान दे रहे हैं।

रामलला के प्रधान पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास ने कहा अखिलेश यादव को नहीं पता है कि किस तरीके की पूजा होती है और कितने प्रकार की किस-किस देवताओं की इसीलिए वह हमेशा अनाप-शनाप बयान देते हैं आचार्य सत्येंद्र दास ने कहा कि अयोध्या में जो मुलायम सिंह यादव ने निहत्थे राम भक्त कारसेवकों के ऊपर गोली चलाने की जो कालिख लगी है वह अभी मिटा ही नहीं और उसी रास्ते पर अखिलेश यादव चल रहे हैं रामलला के प्रधान पुजारी ने नसीहत देते हुए कहा कि अभी चुनावों में जो परिणाम हुआ है राम मंदिर का हवाला देते हुए छुपे शब्दों में रामलला के प्रधान पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास ने कहा कि उसको ध्यान रखें पीपल के नीचे लाल कपड़ा रखकर पत्थर रखकर आस्था मानकर बीजेपी ने विजय प्राप्त की है और उसी का विरोध करके समाजवादी पार्टी पराजित हो गई है अखिलेश यादव को नसीहत देते हुए कहा कि देवी-देवताओं के ऊपर आक्षेप न करें यह उनके लिए बहुत ही दुखदाई और हानिकारक होगा सनातन धर्म में देवी देवता किस तरह पूजे जाते हैं उस पर आक्षेप ना करें जिस तरह से भाजपा ने विजय प्राप्त किया और कांग्रेस समाप्त हो गई है उसी तरह से समाजवादी पार्टी भी समाप्त हो जाएगी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *