Categories
गोंडा लाइव अपडेट

उमरी बेगमगंज गोंडा_जनपद मुख्यालय से महज 35 किलोमीटर की दूरी पर ग्रामसभा मुकुंदपुर में स्थित शक्तिपीठ मां बाराही मंदिर पर नवरात्र के तीसरे दिन श्रद्धालुओ का ताता लगा रहा।

उमरी बेगमगंज गोंडा_जनपद मुख्यालय से महज 35 किलोमीटर की दूरी पर ग्रामसभा मुकुंदपुर में स्थित शक्तिपीठ मां बाराही मंदिर पर नवरात्र के तीसरे दिन श्रद्धालुओ का ताता लगा रहा। क्षेत्र में विशाल वटवृक्ष के नीचे बना हुआ शक्तिपीठ मां बाराही मंदिर में माथा टेक कर मन्नत मांगने वालों की सभी मुरादें पूरी होती हैं यह मंदिर हिंदुओं के साथ-साथ मुसलमानों की आस्था से भी जुड़ा हुआ है प्रत्येक सोमवार शुक्रवार के साथ-साथ नवरात्र के महीने में हजारों की संख्या में भक्त मां के दर्शन कर अपनी मन्नत मांगते हैं,साध्वी रामा देवी ने बताया प्रचलित मान्यता के अनुसार मां बाराही के चरणों में माथा टेककर मांगने वाले की सभी मुरादें पूरी होती हैं दुर्गा सप्तशती के अनुसार जब रक्तबीज का  बध करना था तो उस समय मां जगदंबा ने अपनी अद्भुत शक्तियों का प्रदर्शन किया है उन के आवाहन पर बाराही इंद्राणी ब्राह्मी वैषणवी नरसिंही आदि देवियॉं उक्त आताताई के संघार हेतु रणभूमि उपस्थित हुई बाराह पुराण के अनुसार जब हिरण्याक्ष का वध करने के लिए भगवान विष्णु को बाराह का रुप धारण करना पड़ा और पाताल लोक पहुंचने के लिए शक्ति की आराधना की तो सुखनई नदी के तट पर मां बाराही देवी प्रकट हुई   मंदिर के चारों तरफ फैली  वटवृक्ष की शाखाएं  इस मंदिर के प्राचीन होने का प्रमाण दे रही हैं मां बाराही मंदिर को उत्तरी भवानी के नाम से भी जाना जाता है यहां अखियां चढ़ाने का विशेष प्रचलन है और मंदिर का नीर डालने से आंखों की रोशनी वापस लौट आती है यहां के पुजारी योगेंद्र दास ने बताया कि मंदिर में  सुरंगआज भी सुरक्षित है । सुरंग के ऊपर बने अरघे में दिन रात दीपक जलता रहता है  नवरात्र माह में मंदिर को प्रतिदिन अलग-अलग रंगों से सजाया जाता है और माता के अलग-अलग रूपों की पूजा होती है। पुजारी राघव दास ने बताया कि नवरात्र के साथ प्रत्येक सोमवार और शुक्रवार को भी हजारो श्रद्धालु मां के दर्शन के लिए आते है, मुराद पूरी हो जाने के बाद भी भक्त मां के दर्शन के लिए भी आते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *