Categories
कोरोना लाइव अपडेट

बाबा बालेश्वर नाथ मंदिर में वर्तमान कोरोना संकट के समय लोगों द्वारा और प्रशासन द्वारा अपनाए गए नियमों, कानूनों की झलक , धार्मिक स्थल पर हो रही लापरवाही का मंजर-तीसरी लहर को न्योता

नमस्कार दोस्तो।आइए हम आपको वर्तमान कोरोना संकट के समय लोगों द्वारा और प्रशासन द्वारा अपनाए गए नियमों, कानूनों की झलक , धार्मिक स्थल पर हो रही लापरवाही का मंजर से आपको रूबरू करवाते है,जिसे हमारी टीम ने कवर किया है। ये स्थान है बाबा बालेश्वर नाथ मंदिर।
बाबा बालेश्वर नाथ मंदिर गोंडा शहर से 17 km दूर स्थित है, ये बहुत ही प्राचीन मंदिर है।यह गोंडा अयोध्या रोड पर स्थित डुमरियाडीह बाजार से तरबगंज रोड पर बल्हा राई ग्राम सभा में स्थित है।मान्यता है की यहां स्थित शिवलिंग श्वयंभु मतलब अपने आप धरती से निकला शिवलिंग है। ओरंगजेब के शासन काल में इस शिवलिंग पर आरे से प्रहार किया गया था,जिसका चिन्ह आज भी विद्यमान है।गोंडा परिक्षेत्र में इस मंदिर की मान्यता बहुत अधिक है और सावन महीने में इसकी परसिद्धि देखी जा सकती है।
सावन का महीना चल रहा है,सावन के सोमवार के दिन हमारे रिपोर्टर अभिषेक जी ने यहां पर खासतौर पर कोरॉना को ध्यान में रखते हुए यहां की स्थिति का अवलोकन और कवरेज किया ,जिससे यहां की स्थिति का अनुमान आप स्वयं लगा सकते है।
यहां सावन के सोमवार के दिन शिवजी को जल अर्पित करने वालो का तांता सा लगा रहता है,ठीक वैसे ही आज भी भक्तों की भीड़ बहुत अधिक है।गौर करने वाली बात यह है की लोगो के चेहरों पर मास्क आपको दिखाई नहीं देगा और दिखाई भी देगा तो चेहरे के निचले स्तर पर लटका हुआ।शायद लोगो को कोरोना का भय नहीं या धार्मिक कर्मकाण्ड में सामाजिक जिम्मेदारी मायने नहीं रहती, और साथ ही यहां पर मौजूद प्रशासन वर्ग ,थाना वजीरगंज के एस ओ और अपनी टीम,गाड़ी सहित स्वयं जाम में फसे है।प्रशासन यहां की स्थिति से पहले से परिचित है,किंतु इसके सुचारू रूप से संचालन ,नियमों सहित संचालित करने में असमर्थ सा लग रहा है।लोग सड़क नियमों का पालन तो दूर ,हेलमेट भी पहनना भूल गए है शायद।
एक तरफ जहां उत्तर प्रदेश सरकार कोरोना की तीसरी लहर को लेकर गंभीर है और उसके चलते मुस्लिम त्योहार मुर्रहम के जुलूस पर प्रतिबंध भी लगा दिया है।वहीं हमारे सामने धार्मिक स्थल पर लोगो का और प्रशासन की लापरवाही का ये नजारा देखेने को मिलता है,तो हम यह जरूर कह सकते है की अगर हमने इस पर ध्यान नहीं दिया और सावधानी नहीं बरती तो तीसरी लहर में हमारा योगदान अवश्य रहेगा।साथ ही प्रशासन भी अपनी भूमिका अदा करेगी।धन्यवाद।

Categories
कोरोना

मेरिकी हेल्थ एजेंसी CDC के मुताबिक वैक्सीन की सभी खुराकें ले चुके लोग भी डेल्टा वेरिएंट फैला सकते हैं

अमेरिकी हेल्थ एजेंसी CDC के मुताबिक, वैक्सीन की सभी सुराकें ले चुके लोग भी बिना वैक्सीनेशन वाले लोगों जीतना ही डेल्टा वेरिएंट फैला सकते हैं. वैज्ञानिकों ने डेल्टा वेरिएंट को सबसे ज्यादा संक्रामक बताया है।
न्यूयॉर्क: कोरोना वायरस का डेल्टा वेरिएंट कोविड-19 सभी वेरिएंट्स की तुलना में सबसे ज्यादा गंभीर संक्रमण पैदा कर सकता है, अमेरिकी हैल्थ एजेंसी के वैज्ञानिकों का कहना है सबसे खतरनाक ये है को डेल्टा वेरिएंट ! चेचक की तरह आसानी से फैल सकता है।

Categories
कोरोना लखनऊ लाइव अपडेट

उत्तर प्रदेश में राज्यों में पॉजिटिविटी रेट 03% से अधिक यात्रियों के लिए RT-PCR की नेगेटिव रिपोर्ट या वैक्सीन की दोनों डोज लगी होने की रिपोर्ट अनिवार्य

जिन राज्यों में पॉजिटिविटी रेट 03% से अधिक है, वहां से उत्तर प्रदेश आने वाले यात्रियों के लिए RT-PCR की नेगेटिव रिपोर्ट या वैक्सीन की दोनों डोज लगी होने की रिपोर्ट अनिवार्य है: ACS, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य, श्री अमित मोहन प्रसाद जी

संक्रमण कम हुआ है लेकिन समाप्त नहीं। इसलिए, लापरवाही बिल्कुल भी न बरतें।संक्रमण की शृंखला को तोड़ने हेतु निरंतर कोविड अनुरूप व्यवहारों का सख्ती से पालन करते रहें: ACS, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य, श्री अमित मोहन प्रसाद जी.

प्रदेश में कोविड टीकाकरण तेजी से संचालित है।

कल 4,33,110 वैक्सीन की डोज लगाई गई हैं।

अब तक वैक्सीन की कुल 4,67,80,980 डोज लगाई जा चुकी हैं: ACS, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य, श्री अमित मोहन प्रसाद जी

Categories
कोरोना लखनऊ लाइव अपडेट

बाहर से आने वाले राज्यों से उत्तर प्रदेश में प्रवेश करने वाले यात्रियों के लिए नेगेटिव कोविड रिपोर्ट अनिवार्य है

उत्तर प्रदेश सरकार ने अब राज्य में प्रवेश करने वाले यात्रियों के लिए एक नेगटिव आरटी-पीसीआर (कोविड -19) रिपोर्ट प्रस्तुत करना अनिवार्य कर दिया है। यह नियम तीन फीसदी से ज्यादा पॉजिटिविटी रेट वाले राज्यों से यूपी की यात्रा करने वाले यात्रियों पर लागू होगा।
रविवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ बैठक में यूपी सरकार के नौ शीर्ष अधिकारियों की एक टीम ने यह निर्णय लिया। इस कदम का उद्देश्य उत्तर प्रदेश में कोविड -19 के तीसरी लहर के प्रसार को रोकना है।

नए दिशानिर्देशों के अनुसार, उत्तर प्रदेश की यात्रा करने वाले किसी भी व्यक्ति को एक नेगटिव कोविड -19 रिपोर्ट प्रस्तुत करनी होगी। यह रिपोर्ट आगमन की तारीख से कम से कम चार दिन पहले की होनी चाहिए।

नया नियम हवाई, सड़क या रेल मार्ग से यूपी की यात्रा करने वाले किसी भी व्यक्ति पर लागू होगा। अपने निजी वाहनों से उत्तर प्रदेश में प्रवेश करने वाले लोगों को भी इस प्रोटोकॉल का पालन करना होगा।

उत्तर प्रदेश प्रशासन द्वारा नई एसओपी जारी होने के बाद पता चलेगा कि जिन लोगों को कोविड-19 टीके की दोनों खुराक मिली हैं, वे नए दिशानिर्देशों से बचे रहेंगे या नहीं।
इस बीच, सीएम योगी आदित्यनाथ ने राज्य के अधिकारियों को उच्च कोविड -19 सकारात्मकता दर वाले राज्य से यूपी में प्रवेश करने वाले सभी लोगों के तेजी से एंटीजन परीक्षण और थर्मल स्कैनिंग करने का भी निर्देश दिया है।
मुख्यमंत्री ने राज्य भर में “टेस्ट, ट्रैक एंड ट्रीट” नीति और अन्य कोविड -19 प्रोटोकॉल के अधिक मजबूत कार्यान्वयन का भी आदेश दिया है।

इस बीच, उत्तर प्रदेश ने पिछले 24 घंटों में 56 नए कोविड -19 मामले दर्ज किए, जबकि 69 रोगियों को ठीक होने के बाद अस्पतालों से छुट्टी दे दी गई।

अपर मुख्य सचिव सूचना नवनीत सहगल ने बताया कि प्रदेश के सात से अधिक जिले कोरोना मुक्त हो चुके हैं. उत्तर प्रदेश में रिकवरी रेट बढ़कर 98.6 फीसदी हो गया है।

Categories
कोरोना गोंडा लाइव अपडेट

वजीरगंज सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पर कोरोना प्रोटोकाल का उलंघन

गोंडा जिले वजीरगंज सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पर कोविड टिका के दौरान नही बरती जा रही सावधानी । खुलेआम हो रहा हैं

फोटो में आप देख सकते हैं किस तरह लोग और सरकारी कर्मचारी बिना मास्क के नजर आ रहे हैं, कोरोना  प्रोटोकाल का उलंघन, नही होता दिखा प्रोटोकाल का पालन । बिना मास्क के हो रहा हैं टिकाकरण। प्रसाशन कुछ मूक दर्शक बना हुवा हैं । अगर ऐसा ही हाल रहा तो तीसरी लहार आने में देर नहीं लगेगी ।

 

Categories
कोरोना लखनऊ लाइव अपडेट

यूपी में घटते के कोरोना केस के बीच योगी सरकार ने बदला नाइट कर्फ्यू का समय, जानिए नई टाइमिंग

उत्तर प्रदेश में घटते कोरोना संक्रमण को देखते हुए नाइट कर्फ्यू का समय कम कर दिया गया। अब नाइट कर्फ्यू रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक लागू रहेगा। वीकेंड लॉकडाउन पहले की तरह प्रभावी रहेगा। यह निर्णय सीएम योगी ने रविवार को अधिकारियों के साथ बैठक में लिया।

सीएम योगी ने अधिकारियों से कहा कि कोरोना प्रोटोकाल पूरी तरह पालन कराया जाए। नियमों का उल्लंघन करने वालों पर सख्त कार्रवाई की जाए। दुकानों पर दुकानदार व स्टाफ के लिए मास्क, दो गज की दूरी और सेनेटाइजर की व्यवस्था सुनिश्चित करेंगे। यही अनिवार्यता ग्राहकों के लिए भी लागू होगी।

स्वास्थ्य बुलेटिन के अनुसार, यूपी में पिछले 24 घंटों में कोविड-19 से चार लोगों की मौत होने के साथ ही राज्य में इस बीमारी से मरने वालों की संख्या बढ़कर 22,693 हो गई है। वहीं संक्रमण के 100 नये मामले आने के बाद राज्य में अभी तक कुल 17,07,225 लोगों के कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है। राज्‍य में आज संक्रमण से पीलीभीत में दो और मैनपुरी तथा गोरखपुर से एक-एक व्यक्ति की मौत हुई है। 

Categories
कोरोना लखनऊ

कब खुलेंगे यूपी के स्कूल, जानें- ताजा अपडेट्स

देश में कोरोना की दूसरी लहर कमजोर पड़ने के साथ उत्तर प्रादेश ने अपने यहां बंदिशों में भी छूट देनी शुरू की है। इसी के तहत कई ने स्‍कूलों को दोबारा खोलने की तारीख का भी ऐलान कर दिया है। बता दें कि देशभर में कोरोना वायरस महामारी प्रकोप के चलते काफी समय से स्कूल, कॉलेज और दूसरे शिक्षण संस्थान बंद हैं। शैक्षणिक सत्र पूरा करने के लिए ऑनलाइन क्लासेस की मदद ली जा रही है।

देश में तीसरी लहर आने की आशंका

कोरोना की दूसरी लहर खत्‍म नहीं हुई है। वहीं, तीसरी लहर आने की भी आशंका जताई जा रही है। ऐसे में स्‍कूलों को खोलने में खतरा है। देश में 18 साल से कम उम्र वालों का वैक्‍सीनेशन भी नहीं हुआ है। देश में 12 से 18 साल से उम्र के बच्‍चों के लिए अगले कुछ महीनों में वैक्‍सीनेशन की शुरुआत हो सकती है। इसे लेकर ट्रायल चल रहे हैं। ऐसे में कई यूपी के जिलों में स्कूल और कॉलेजों को फिर से खोलने पर विचार-विमर्श किया जा रहा है। कई जिलों  ने फिर से स्कूल, कॉलेज खोलने पर ताजा अपडेट जारी किया है, आइए जानते हैं आपके शहर में स्कूल और कॉलेज कब खुल सकते हैं।

उत्‍तर प्रदेश में अभी आनलाइन क्लास की इजाजत

उत्तर प्रदेश के जिलों  में 1 जुलाई से प्रशासनिक काम के लिए स्‍कूल खुल गए हैं। हालांकि, बच्‍चों को अभी ऑनलाइन ही क्‍लास करने के लिए कहा गया है। राज्‍य सरकार ने केवल टीचिंग और नॉन-टीचिंग स्‍टाफ को स्‍कूल आने की इजाजत दी है।